दमोह.. स्वास्थ्य शिविर में अव्यवस्थाए.. जांच के पहले मरीजो को दिया भाषण वाजी का डोज !

अव्यवस्थाआें के बीच 717 मरीजों का हुआ परीक्षण- दमोह। राज्य बीमारी सहायता निधि व राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत चिंहित गंभीर बीमारियों के इलाज के लिये जिला चिकित्सालय परिसर में जिला स्तरीय स्वास्थ्य सेवा शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें अव्यवस्थाओं के बीच 717 मरीजों का परीक्षण होने का दावा किया गया है। शिविर के शुभारंभ पर मरीजों को देर तक नेताओं की भाषणवाजी का डोज दिया गया। इसके बाद ही अन्य पंजीयन परीक्षण का दौर शुरू हुआ। स्वास्थ्य विभाग ने जिला स्तर के इस शिविर में नेताओं का तो भरपूर ध्यान रखा परंतु मीडियाकर्मियों, रेडक्रास सोसायटी तथा रोगी कल्याण समिति के सदस्यों को  किसी भी प्रकार की सूचना देना तक जरूरी नहीं समझा गया जनसंर्पक विभाग के प्रेस नोट में नेताओं की भाषण वाजी की फोटो मीडिया को जारी किए गए परन्तु  मरीजों की जांच संबंधी फोटो उपलब्ध करना जरूरी नहीं समझा गया। गुरूवार को जिला अस्पताल परिसर में जिला स्तरीय मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर में एक साथ विभिन्न बीमारियों के विशेषज्ञों द्वारा अपनी सेवायें देने का दावा किया गया। शिविर में वित्त मंत्री जयंत मलैया व सांसद प्रहलाद पटेल के आगमन को प्रचारित किया गया था। परंतु उनकी अनुपस्थिति में बुंदेलखण्ड विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रामकृष्ण कुसमरिया, पथरिया विधायक लखन पटैल, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटैल, भाजपा महामंत्री रमन खत्री, भाजपा नगर अध्यक्ष ब्रज गर्ग आदि मंचासीन नजर आए। विभागीय अधिकारियों में राज्य प्रतिनिधि डॉ. महेन्द्र जैन, डॉ. संतोष जैन क्षेत्रीय संचालक सह संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवायें सागर एवं पूर्व क्षेत्रीय संचालक सह संयुक्त संचालक डॉ. के. के. ताम्रकार तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर. के. बजाज, सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी, मंचासीन रहे। अतिथियों ने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत जन्मजात बधिरता व हृदय रोग से जुड़ी समस्या से निजात पाने वाले बच्चां शिवा विष्वकर्मा, दिव्यांषी, नवाज खान के अभिभावकों का सम्मान किया। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 154 मरीजों व 92 मरीज राज्य बीमारी सहायता निधि के अंतर्गत इलाज हेतु चिंहित किये जाने तथा 717 हितग्राहियों का पंजीयन होने की जानकारी दी गई है। इनमें राज्य बीमारी सहायता निधि के अंतर्गत 480 व राष्ट्रीय बाल सुरक्षा कार्यक्रम के तहत 18 वर्ष तक के 237 मरीजों को चिंहित किया गया। षिविर में स्वास्थ्य परीक्षण के बाद 154 मरीजों को राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत व 92 मरीज राज्य बीमारी सहायता निधि के अंतर्गत इलाज हेतु उपयुक्त पाये गये। अन्य गंभीर बीमारियों मसलन थैलीसीमिया, मिरगी, हाईड्रोसिल जैसी बीमारियों वाले 99 मरीजों को जिला अस्पताल एवं मेडीकल कॉलेज में रिफर कर स्वास्थ्य लाभ की बात कहीं जा रही  है। अव्यवस्थाओं के बीच परेशान हुए मरीज व परिजन- जिला स्तरीय शिविर में मरीजों के लिए इंतजाम करने के बजाय मंचीय आयोजन पर ही सारा ध्यान केंद्रित किया गया था। जिससें दूरदराज से आए मरीजों तथा उनके परिजनों को अपनी जांच संबंधी डाक्टर तथा काउंटर का पता लगाने यहां वहां भटकना पड़ा। गांव ग्रामीण क्षेत्रों से मरीजों के साथ स्वास्थ्य कार्यकर्ता भी इस दौरान यहां वहां होते नजर आए।  मीडिया, रेडक्रास, रोगी कल्याण की अनदेखी- जिला स्तरीय शिविर के आयोजन के दौरान सत्तारूण दल के नेताओं की आवभगत में लगे रहे चिकित्सा विभाग के अधिकारियों ने मीढियाकर्मियों, रेडक्रास सोसायटी के निर्वाचित सदस्यों तथा रोगी कल्याण समिति के सदस्यों को इस बृहद केंप के आयोजन की सूचना देना तक आवश्यक नहीं समझा। यहां तक कि शिविर में पहुंचे सदस्यों की अनदेखी किए जाने के साथ उपेक्षित व्यवहार किया जाता रहा। अधिकांश समय चिकित्सा विभाग के अधिकारी मंचासीन नेताओं की आवभगत करने में ही लगे नजर आए। शैलार स्मृति न्यास ने खीर-खिचड़ी का वितरण किया- इस मौके पर डा. पीडी शैलार स्मृति न्यास द्वारा शिविर में आए मरीजों के लिए पौष्टिक खीर एवं खिचड़ी का वितरण मरीजों तथा उनके परिजनों के लिए किया गया। न्यास के संचालक कैलाश शैलार तथा उनकी टीम इस दौरान सक्रिय रही। उल्लेखनीय है कि लगातार पंद्रह वर्षो से शैलार न्यास द्वारा जिला अस्पताल में मरीजों के लिए प्रतिदिन खिचड़ी का वितरण किया जा रहा है।
About Atal R Jain 1821 Articles
सतत पत्रकारिता का 27 वां वर्ष... 1990-2008 ब्यूरो चीफ दैनिक भास्कर भोपाल, 2009-2014 रिपोर्टर साधना न्यूज मप्र-छग, 2011-2015 रिपोर्टर न्यूज एक्सप्रेस, 2012-से ब्यूरो चीफ जनजन जागरण भोपाल, 2013-2016 ब्यूरो चीफ ओम टीवी न्यूज, 2017 से atalnews24.co [महत्वपूर्ण घटनाक्रम-फोटो-वीडियों 9425095990 पर तत्काल वाटसअप करें ]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.