मेडिकल कॉलेज का मुद्दा.. बुंदेलखंड में भाजपा के लिए गले की फांस बना.. चुनाव के बाद होगी घोषणा.. !

http://atalnews24.co
सोशल मीडिया से शुरू मुद्दा विधानसभा में गूंजेगा- सदियों से पिछड़ेपन का दंश झेल रहे बुंदेलखंड इलाके के लोगों के बीच मेडिकल कॉलेज की स्थापना का सब्जबाग इन दिनों सर चढ़कर बोल रहा है। केंद्र सरकार के बजट सत्र के दौरान तीन लोकसभा क्षेत्रों के बीच एक मेडिकल कॉलेज की स्थापना की घोषणा इस साल मप्र सहित देश के पांच राज्यों मे होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण मानी जा रही थी। परंतु मप्र के बुंदेलखंड इलाके में यह घोषणा देखते ही देखते राज्य सरकार के लिए गले की फांस बनती जा रही है। केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र खटीक द्वारा छतरपुर के बाद अब टीकमगढ़ का भी पक्ष लिए जाने को इसी तौर पर देखा जा रहा है। जल्द ही शुरू होने वाले मप्र विधानसभा के बजट सत्र के दौरान छतरपुर जिले में मेडिकल कॉलेज खोले जाने की मांग को लेकर भाजपा विधायक आरडी प्रजापति तथा  पन्ना जिले में  मेडिकल कॉलेज खोले जाने की  मांग को लेकर  कांग्रेस विधायक मुकेश नायक विधानसभा में मुद्दा उठाने की घोषणा कर चुके हैं। अन्य क्षेत्रों के विधायकों द्वारा भी अपने अपने जिले में मेडिकल कॉलेज की मांग पर ध्यानाकर्षण लगाने की संभावना बनी हुई है। अधिकांश जगह भाजपा नेता संभाले हुए हैं कमान- दमोह जिले की बात की जाए तो युवा मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी मनीष सोनी अपने खून से प्रधानमंत्री को खत लिख कर मेडिकल कॉलेज दमोह में खोले जाने की मुहिम संभाले हुए हैं इधर भाजपा के युवा नेता अनुपम सोनी तथा मोंटी रैकवार बुधवार को मुंडन करा कर मेडिकल की मांग का शंखनाद सभी जगह कर रहे हैं। इसी कड़ी में एक और युवा भाजपा नेता PG कॉलेज जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष सतीश तिवारी सोशल मीडिया के बाद अब कॉलेज स्तर पर इस मुहिम के सूत्रधार बने हुए हैं। भाजपा नेता सत्येंद्र साहू भी इस मामले को लेकर सोशल मीडिया  पर सक्रिय हो गए हैं। दमोह के केएन गर्ल्स कॉलेज में गुरुवार को छात्राओं को छात्र क्रांति दल के बैनर तले मेडिकल कॉलेज दमोह में खोले जाने की मांग को लेकर शपथ दिलाई गई। इस मौके पर PG कॉलेज जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष सतीश तिवारी अग्रणी भूमिका में नजर आए। वहीं गर्ल्स कॉलेज जनभागीदारी समिति अध्यक्ष नर्मदा सिंह एकता भी मौजूद रही। वहीं अन्य भाजपा नेताओं में खून से खत लिखने वाले मनीष सोनी तथा मुंडन कराने वाले अनुपम सोनी की भी मौजूदगी रही। गर्ल्स कॉलेज की छात्र संघ पदाधिकारियों  एवं छात्र क्रांति दल के जिला अध्यक्ष कृष्णा पटेल की भी मौजूदगी रही। जो इस मामले में पथरिया दमोह तथा हटा में ज्ञापन सौप चुके हैं। दमोह जिले की हटा विधानसभा क्षेत्र में भी  मेडिकल कॉलेज खोले जाने की मांग इस आधार पर जोर पकड़े हुए हैं कि यहां से पन्ना, छतरपुर एवं दमोह की दूरी लगभग समान रहेगी। वित्त मंत्री ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को मांग पत्र सौंपा- दमोह। वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत कुमार मलैया ने कहा कि गत दिवस दिल्ली में दमोह में मेडिकल कॉलेज खोले जाने हेतु भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्री को मांग पत्र सौंपा गया है। उन्होंने कहा मांग पत्र में  स्वास्थ्य मंत्री से आग्रह किया गया और अवगत कराया गया है कि दमोह शहर के नजदीक 25 हैक्टर जमीन मेडिकल कालेज के लिए प्रशासन द्वारा चिन्हांकित कर ली गयी है। श्री मलैया ने बताया कि उन्होंने मेडिकल कॉलेज के लिए विधायक निधि से राशि देने के साथ ही जिले के अन्य साथी विधायकों ने अपने निधि की राशि देने की बात कही है। यह भी कहा है कि जिले की जनप्रतिनिधि और नागरिक भी इस हेतु करीब एक करोड़ रूपये सहयोग करेंगे। श्री मलैया ने कहा सांसद प्रहलाद पटैल ने भी इस संबंध में वित्तीय सहयोग के लिए सहमति दी है। उन्होंने कहा हमने आग्रह किया है कि मेडिकल कॉलेज के स्थान अंतिम चयन में खुजराहो, सतना और दमोह लोकसभा में नया मेडिकल कालेज खुले जाने पर इन बातों पर भी विचार किया जायें। मंत्री पुत्र ने जताई आंदोलन से नुकसान की आशंका- दमोह के नगर पालिका टाउन हॉल में बीती रात व्यापारी वर्ग के साथ एक विचार गोष्ठी मैं मंत्री पुत्र युवा नेता सिद्धार्थ मलैया ने इस आंदोलन को लेकर कुछ लोगों की मंशा पर चिंता जताई। मेडिकल कॉलेज खोले जाने पर इसका श्रेय सांसद को तथा नहीं खोले जाने पर इसका नुकसान मंत्री जी पर थोपे जाने की बात करते हुए  कुछ लोगों की मनोदशा पर  इशारे ही इशारे में  कटाक्ष किया। उक्त हालात में उनके द्वारा भी प्रधानमंत्री जी को पत्र भेजकर चुनाव के बाद ही मेडिकल कॉलेज के स्थान की घोषणा किए जाने की बात की गई।  सामाजिक संगठन व एनजीओ भी मुहिम में जुड़े- दमोह में मेडिकल कॉलेज खोले जाने की मांग को लेकर अनेक सामाजिक संगठन एनजीओ की मुहिम से जुड़े हुए हैं। इनकी कमान पत्रकार महेंद्र दुबे संभाले हुए हैं। सोशल मीडिया पर इस मुहिम की शुरुआत करने वाले महेंद्र ने सांसद प्रहलाद पटेल एवं मंत्री जयंत मलैया से सकरात्मक सहयोग का मिलने की जानकारी भी प्रेषित की थी। हालां कि इन दोनों जनप्रतिनिधियों की ओर से कोई भी अधिकृत वक्तव्य सामने नहीं आया है। वही बीती रात टाउन हॉल व्यापारी वर्ग की बैठक के बाद गुरुवार शाम मानस भवन में एक बड़ी बैठक की गई । एक अनार 5 बीमार जैसे के हालात हो गए हैं निर्मित- मेडिकल कॉलेज को खोले जाने की मांग को लेकर पिछले 1 सप्ताह से छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना, दमोह तथा कटनी में सोशल मीडिया से शुरू हुआ संग्राम ज्ञापन, प्रदर्शनों के जरिए सड़क पर पहुंच चुका है। अधिकांश जगह मेडिकल कॉलेज की मांग की अगुवाई करने वालों में भाजपा के नेताओं ने विपक्षी कांग्रेस को पीछे छोड़ रखा है। एक अनार 5 बीमार के हालात को ध्यान में रखकर किसी एक जगह मेडिकल कॉलेज खोले जाने से सभी पांच जगह के लोगों की संतुष्टि होना संभव नहीं है। ऐसे में सत्तारूढ़ दल के  सांसद विधायक बैठे-बिठाए विपक्ष को मुद्दा देने के बजाय यह मामला जल्द ही ठंडे बस्ते में जाने की संभावनाएं नजर आने लगी है। सूत्रों का यहां तक कहना है कि  CM के जरिए PM तक यह संदेशा भेजने की कोशिशों में कुछ नेता लगे हैं कि नए मेडिकल कॉलेज के स्थान की घोषणा चुनाव के बाद ही की जाए। जल्द घोषणा होने पर आम जनता के साथ नव मतदाता तथा युवा वर्ग के आक्रोश तथा चुनावी मुद्दा बनने की आशंका से सत्तारूढ़ दल के लोग चिंतित नजर आने लगे हैं। उक्त हालात में यदि मेडिकल कॉलेज का मामला ठंडे बस्ते में चला भी जाता है तब भी बुंदेलखंड के तीन लोकसभा क्षेत्रों के 4 जिलों के लोग मेडिकल कॉलेज की मांग रूपी मुद्दे को आसानी से भूल जाएंगे ऐसा होना मुश्किल नजर आ रहा है। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट
http://atalnews24.co
About Atal R Jain 2303 Articles
सतत पत्रकारिता का 27 वां वर्ष... 1990-2008 ब्यूरो चीफ दैनिक भास्कर भोपाल, 2009-2014 रिपोर्टर साधना न्यूज मप्र-छग, 2011-2015 रिपोर्टर न्यूज एक्सप्रेस, 2012-से ब्यूरो चीफ जनजन जागरण भोपाल, 2013-2016 ब्यूरो चीफ ओम टीवी न्यूज, 2017 से atalnews24.co [महत्वपूर्ण घटनाक्रम-फोटो-वीडियों 9425095990 पर तत्काल वाटसअप करें ]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.