दमोह की ओर बढ़े आचार्यश्री के कदम.. जबेरा में ऐतिहासिक आगवानी.. निधि दीदी ने वैराग्य व्रत लिया..

आचार्य भगवन के चरण कमल दमोह की ओर बढ़े- दमोह। जबलपुर से टीकमगढ़ के पपौरा जी के लिए मंगल विहार करते हुए प्रतिदिन 20 किलोमीटर से अधिक का फासला तय कर रहे आचार्य भगवन गुरुवर श्री विद्यासागर जी महाराज और दमोह नगर के बीच अब मात्र 25 किमी का फ़ासला बचा है। बुधवार सुबह नोहटा में आर्यिका रत्न तपोमति माता जी संघ सहित आचार्य संघ की मंगल आगवानी करेंगी। मंगलवार की शाम जबेरा नगर से विहार करते हुए आचार्य संघ घाना मैली गांव पहुंचा। जहां रात्रि विश्राम के बाद प्रातः बेला में नोहटा में आचार्य गुरुवर की भव्य अगवानी की कदम कदम पर जोरदार तैयारियां की गई हैं। आचार्य श्री की अगवानी हेतु नोहलेश्ववरगिरी में भव्य तैयारियों के साथ बुधवार को आहार चर्या संपन्न होने की संभावना बनी हुई है। इधर अभाना गांव में आचार्य श्री आगमन को लेकर बेकरारी के साथ इंतजार किया जा रहा है। यहांं पर भी जमकर तैयारियां जारी है। जबेरा में मंगलवार सुबह हुई ऐतिहासिक आगवानी- परम पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर जी महाराज ने रानी दुर्गावती अभ्यारण्य के दानीताल के घने जंगल मे रात्रि विश्राम कर मंगलवार को प्रातःकाल जबेरा नगर में मंगल प्रबेश किया। जैन समाज सहित नगर वासियो ने उत्साह, गाजे बाजे के साथ आचार्यश्री की ससंघ भव्य आगवानी यहाँ पर विराजमान पूज्य मुनिश्री प्रबुध्द सागर महाराज के सानिध्य में की। जैन समाज ने मुनिश्री प्रबुध्दसागरजी महराज के साथ 2 किमी दूर नगर की सीमा पर पहुचकर आचार्यश्री की भव्य ऐतिहासिक आगवानी की। इसके बाद हजारो भक्तो के लंबे जुलूस के साथ आचार्यश्री ने श्रीपार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर पहुचकर दर्शन किये। आगवानी दौरान जबेरा नगर को दुल्हन की तरह सजाया गया। घर घर द्वार द्वार रंगोली सजाई, जगह जगह विशाल तोरण द्वार बनाये गए। इस ऐतिहासिक भव्य आगवानी के साक्षी जबलपुर, दमोह, कटंगी, पाटन, सीहोरा, नोहटा, डिंडोरी, कोतमा एव राजस्थान के सैकड़ो श्रद्धालु गण बने। आचार्य श्री की आहारचर्या में आहारदान का सौभाग्य ब्रह्मचारी श्रेयांस भैया, ब्रह्मचारिणी बहिन निधि दीदी, अशोक मलैया परिवार को मिला। इसके बाद आचार्यश्री ने नवीन सन्त भवन में ध्यान लगाया। वही मन्दिर प्रांगण में आचार्यश्री के समक्ष कई श्रद्धालु हाथ करघा योजना से जुड़े। हथकरघा योजना लोगो को स्वरोजगार उपलब्ध कराने के साथ स्वदेशी बिचार पर आधारित है। वही नगर का गौरव बढ़ाते हुए नगर के प्रतिष्ठित कमल चौधरी की सुपुत्री प्रतिभाशाली युवती बहिन निधि दीदी ने बैराग्य पथ पर आगे बढ़ने आजीवन सयम ब्रह्मचर्य ब्रत को अंगीकार किया। इस दौरान उपस्थित कई नगरों, ग्रामो की समाजो के लोगो ने आचार्य श्री को श्रीफल अर्पित कर आशीर्वाद ग्रहण किया। इसके बाद आचार्यश्री ने एक विशाल धर्म सभा को भी सम्बोधित किया। जिसमें  विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं पदाधिकारियों सहित सर्व समाज के लोगों की भी मौजूदगी रही। मंगलवार शाम आचार्य संघ का जबेरा से बिहार होते ही इस बात की उत्सुकता लोगों के बीच बनी हुई थी कि आचार्य श्री नोहटा मार्ग पर बढ़ते हैं या फिर चंडी चोपड़ा की तरफ। चंडी चोपड़ा की तरफ जाने वाले मार्ग को छोड़ कर आचार्य श्री जैसे ही नोहटा मार्ग पर बड़े वैसे ही यह तय हो गया गुरुवार को गुरुवर के चरण दमोह नगर की धारा को धन्य करेंगे। आचार्य श्री के पीछे पीछे हजारों के जन सैलाब के साथ कुंडलपुर कमेटी के पदाधिकारी भी लगातार पद वंदना करते हुए तथा कुंडलपुर की तरफ रुख करने का निवेदन करते चल रहे हैं। परंतु आचार्य श्री को 17 अप्रैल के पूर्व पपौरा जी पहुंचना है। ऐसे में आचार्य श्री के कुंडलपुर तरफ से पपोरा जी तरफ विहार की संभावनाएं कम होती जा रही है। वही दमोह नगर में ऐतिहासिक अगवानी की तैयारियां शुरू हो गई है।  संभावना जताई जा रही है कि बड़े बाबा के दर्शन के बिना ही छोटे बाबा दमोह, हटा, बाजना मार्ग से बड़ा मलहरा, द्रोणागिरी होते हुए पपौराजी की ओर बिहार करेंगे। फिलहाल बुधवार को नोहटा वासियों को आचार्य श्री की मंगल अगवानी और दर्शन पूजन का सौभाग्य मिलने जा रहा है। नोहटा में देर रात तक तैयारियां जारी थी, वही लोग सुबह होने का इंतजार रतजगा करते नजर आ रहे हैं।  जबेरा से मयंक जैन के साथ अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट
About Atal R Jain 2007 Articles
सतत पत्रकारिता का 27 वां वर्ष... 1990-2008 ब्यूरो चीफ दैनिक भास्कर भोपाल, 2009-2014 रिपोर्टर साधना न्यूज मप्र-छग, 2011-2015 रिपोर्टर न्यूज एक्सप्रेस, 2012-से ब्यूरो चीफ जनजन जागरण भोपाल, 2013-2016 ब्यूरो चीफ ओम टीवी न्यूज, 2017 से atalnews24.co [महत्वपूर्ण घटनाक्रम-फोटो-वीडियों 9425095990 पर तत्काल वाटसअप करें ]

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.