10 साल का हिसाब मांगने पर विधायक बिफरी.. भाजपा की किसान सम्मान यात्रा में दिखी शह और मात की राजनीति..

किसान संघ सदस्य ने विधायक को सुनाई खरी-खरी- दमोह।  मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव के साल में भारतीय जनता पार्टी द्वारा किसान सम्मान यात्रा के जरिए किसानों के असंतोष को समझने का प्रयास किया जा रहा है। पार्टी से जुड़े वरिष्ठ किसानों को माला पहनाकर नारियल देकर जहां संतुष्ट करने की कोशिश की जा रही है, वही युवाओं के बीच में यह रणनीति कारगर होती नजर नहीं आ रही है। शायद यही वजह है किसान सम्मान यात्रा के दौरान प्रदेश के अनेक विधानसभा क्षेत्रों में विधायकों तथा पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों को किसानों के आक्रोश का सामना करना पड़ा है। कहीं-कहीं तो युवाओ की खरी खोटी बाते भी सुनना पड़ रही है। दमोह जिले में आरक्षित हटा विधान सभा क्षेत्र की बीजेपी विधायक उमादेवी खटीक की गिनती प्रदेश के सक्रिय विधायकों में होती है। इनके परिवार के लगभग सभी सदस्य भी सक्रिय राजनीति से जुड़े हुए हैं।   पति लालचंद खटीक जहां उमा देवी की विधायकी मैं हाथ बटाते हैं। वहीं पूर्व में जिला पंचायत सदस्य रही बेटी तथा विद्यार्थी परिषद के जरिए छात्र राजनीति कर रहा बेेेटा भी सक्रियता के साथ अपने राजनैतिक दायित्व को संभाले हुए हैं। ऐसे में यदि कोई विधायक जी से उनके 10 साल के कार्यकाल का हिसाब मांग ले तो उनको बुरा लगना लाजमी है। यदि यह सब कहने वाला उनके दल से जुड़ा हो तथा इसका लाभ उनके पार्टी टिकट प्रतिद्वंदी को पहुंच रहा हो तो फिर यह बात तो दूर तक जाएगी ही। भाजपा की किसान सम्मान यात्रा की यह तस्वीर दमोह जनपद पंचायत के अध्यक्ष आलोक अहिरवार के गृह ग्राम बिलाई की है। हटा विधानसभा क्षेत्र के इस गांव के हालात किसी से छिपे नहीं है। आलोक करीब 4 साल से दमोह जनपद के अध्यक्ष है। मंत्री जयंत मलैया के हर कार्यक्रम में वह साथ नजर आते हैं। जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के खास माने जाते हैं। इधर मुख्यमंत्री की करीबी माने जाने वाली उमादेवी खटीक करीब 10 साल से विधायक हैं। फिर भी इस गांव मैं स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़क से लेकर पेयजल सामुदायिक भवनों आदि की  स्थिति वैसी नहीं है जैसी आबादी के हिसाब से होना चाहिए। किसान सम्मान यात्रा के बहाने लंबे समय बाद बिलाई गांव पहुंची विधायक उमादेवी खटीक ने जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के साथ गांव के वरिष्ठ किसानो को माला पहनाकर तथा श्रीफल भेंट करके खुश करने का प्रयास किया। इस दौरान किसान संघ से जुड़े एक युवक ने जब गांव की समस्याएं गिनाना शुरू की तो विधायक जी को गुस्सा आते देर नहीं लगी। उन्होंने भी कह दिया जो करना हो कर लो अभी हम वोट मांगने नहीं आए हैं। विधायक जी की हाजिर जवाबी का यह वीडियो शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद रविवार को प्रदेश के विभिन्न न्यूज़ चैनलों में सुर्खियां बटोरता रहा।इससे भाजपा टिकट के दूसरे दावेदार को लाभ मिलने की संभावना के कारण अब इस मामले को विधायक समर्थक पार्टी की गुटीय राजनीति से जोड़ते नजर आ रहे हैं। 10 साल के कामों का हिसाब मांग कर मीडिया के जरिए इसे सार्वजनिक करने वाले युवक के पारिवारिक संबंध भाजपा टिकट के दूसरे दावेदार के साथ होने की जानकारी सामने आने के बाद अब यह मामला आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी टिकट के शह और मात के खेल से जोड़कर भी देखा जाने लगा है। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट
About Atal R Jain 2007 Articles
सतत पत्रकारिता का 27 वां वर्ष... 1990-2008 ब्यूरो चीफ दैनिक भास्कर भोपाल, 2009-2014 रिपोर्टर साधना न्यूज मप्र-छग, 2011-2015 रिपोर्टर न्यूज एक्सप्रेस, 2012-से ब्यूरो चीफ जनजन जागरण भोपाल, 2013-2016 ब्यूरो चीफ ओम टीवी न्यूज, 2017 से atalnews24.co [महत्वपूर्ण घटनाक्रम-फोटो-वीडियों 9425095990 पर तत्काल वाटसअप करें ]

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.